आसान नहीं थी गीता के 'दंगल' की कहानी

आसान नहीं थी गीता के 'दंगल' की कहानी

शुक्रवार को लॉन्च हुई फोगाट बहनों पर बनीं फिल्म 'दंगल' में उनकी लाइफ और स्ट्रगल को दिखाया गया है पर आज रेसलिंग की दुनिया स्टार्स इन बहनों ने फिल्म में दिखाई गई लाइफ से कई ज्यादा स्ट्रगल किया है। फोगाट बहनों में सबसे पहले गीता ने रेसलिंग में कदम रखा था और शुरुआत में उनकी पहली लड़ाई अपने ही समाज से हुई। गीता एक ऐसे समाज के बीच से निकलीं जहां औरतों का घर से निकलना भी बुरा माना जाता था, पर जब गीता ने कुश्ती के लिए शॉर्ट्स पहनना शुरू किया लोगों ने उन्हें निशाना बनाया ।
 
 हरियाणा के जाट परिवार में जन्मीं गीता चार बहनों में सबसे बड़ी हैं।  इनके पिता महावीर सिंह फोगाट का हमेशा से सपना था कि उनकी बेटियां रेसलिंग में भारत का नाम करें।  महावीर सिंह फोगाट खुद ये सपना नहीं पूरा कर पाए थे इसलिए उन्होंने सबसे पहले गीता को इसकी ट्रेनिंग देना शुरू की। शुरुआत में गीता को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा, हर कदम पर उन्हें ये कहा गया कि वो एक लड़की हैं और पहलवानी मर्दों का खेल है। जब गीता ने रेसलिंग के लिए बाल कटवाए और सूट छोड़ अच्छी ट्रेनिंग के लिए शॉर्ट्स पहने तो कुछ लोगों ने इसे बेशर्मी बताया। हालांकि गीता ने छोटी मानसिकता वाले समाज की बातों पर ध्यान नहीं दिया और अपने पिता के सपनों को साकार करने खून पसीना एक कर दिया।