मध्य प्रदेश के तमाम जिलों में आशा कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर महोदय द्वारा माननीय प्रधानमंत्री और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा : जिला सचिव आरती शर्मा

मध्य प्रदेश के तमाम जिलों में आशा कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर महोदय द्वारा माननीय प्रधानमंत्री और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा : जिला सचिव आरती शर्मा

भोपाल मध्य प्रदेश 

मध्य प्रदेश आशा, आशा सहयोगिनी वर्कर्स यूनियन संबंध ए आई यू टी यू सी  द्वारा मध्य प्रदेश की सभी आशा कार्यकर्ताओं की मांगों को लेकर अखिल भारतीय प्रतिवाद दिवस 3 अक्टूबर 2020 को मनाया गया मध्य प्रदेश आशा ,आशा सहयोगिनी वर्कर्स यूनियन की भोपाल जिला सचिव आरती शर्मा ने बताया कि मध्य प्रदेश के तमाम जिलों में आशा कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर महोदय के द्वारा माननीय प्रधानमंत्री और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा मध्य प्रदेश भोपाल,ग्वालियर, देवास, सागर, गुना ,अलीराजपुर ,इंदौर अन्य जिलों में ज्ञापन दिया गया जिसमें बड़ी संख्या में आशा कार्यकर्ता शामिल रहे और अपनी मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया

प्रदेश में 85000 कार्यकर्ता कार्यत है जो बड़ी मेहनत के साथ स्वास्थ्य विभाग का कार्य करती है लेकिन एक लंबे समय से हम सभी आशा कार्यकर्ता देख रहे हैं कि आशा कार्यकर्ताओं के साथ बहुत ही अन्याय किया जा रहा है आशा कार्यकर्ता अपना काम ईमानदारी के साथ मेहनत के साथ लगन के साथ कर रही है लेकिन सरकार द्वारा उन्हें मासिक वेतन नहीं दिया जा रहा है मात्र मानदेय राशि ₹2000 दी जाती है जिसे घर चलाना मुश्किल होता है आशा कार्यकर्ता सुबह से शाम तक स्वास्थ्य विभाग के अलग-अलग प्रकार के सर्वे करती हैं और सरकार को तमाम जानकारी मुहैया कराती है लेकिन उसके बाद भी उन्हे सरकारी कर्मचारी का दर्जा नहीं दिया गया है 2009 में आशा कार्यकर्ताओं की नियुक्ति हुई थी मध्य प्रदेश में तब से अभी तक आशा कार्यकर्ताओं को मात्र मानदेय दिया जाता है मासिक वेतन नहीं दिया जाता  और भी जो तमाम प्रकार के भते,अवकाश मिलना चाहिए वह भी समय-समय पर नहीं मिलते हैं इसलिए पूरे देश भर की आशा कार्यकर्ता 3 अक्टूबर 2020 को अपनी मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन और ज्ञापन सरकार तक पहुंचा रही है ताकि सरकार उनकी आवाज को सुनें और उनकी मांगों को जल्द से जल्द पूरा करें मध्य प्रदेश के अलावा पूरे देश भर में आज आशा कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया और ज्ञापन सौंपा अपनी मांगों को लेकर

प्रदेश की आशा कार्यकर्ता मांग करती है

1. सभी आशा कार्यकर्ताओं को सरकारी कर्मचारी का दर्जा दिया जाए ।

2. सभी आशा कार्यकर्ताओं को मासिक वेतन 21000 दिया जाए ।

3. सरकार द्वारा कोविड-19 में घोषित प्रोत्साहन राशि 10000 दिया जाए।

4. सभी आशा कार्यकर्ताओं को सभी प्रकार के सर्वे के राशि और अवकाश की सुविधाएं दी जाएं ।

5. कोरोना महामारी से संक्रमित आशा कार्यकर्ताओं को मेडिकल के लिए 50000 का मुआवजा दिया जाए।