मध्य प्रदेश में शाम साढ़े 5 बजे तक हुआ 66.47% मतदान

मध्य प्रदेश में शाम साढ़े 5 बजे तक हुआ 66.47% मतदान

सबसे ज्यादा बदनावर तो सबसे कम ग्वालियर ईस्ट में हुआ मतदान


66.47% polling was held till 5:30 pm in Madhya Pradesh, the worst turnout was the lowest in Gwalior East.

मध्य प्रदेश में सोमवार को 28 सीटों पर उपचुनाव की वोटिंग हुई। शाम साढ़े 5 बजे तक मतदान केंद्रों पर 66.47% वोटिंग हुई। इनम सबसे ज्यादा वोटिंग बदनावर में हुई यहां 83.20% मतदान हुआ  तथा सबसे कम ग्वालियर ईस्ट में 42.99 प्रतिशत मतदान हुआ। इस दौरान प्रदेश के चंबल अंचल के भिंड और मुरैना में वोटिंग के दौरान हिंसा भी देखने को मिली। दोनों जिलों में चुनाव के दौरान कई जगह फायरिंग हुई, वहीं, भिण्डो के लिलोई गांव में कुछ लोगों ने ईवीएम में भी तोड़फोड़ कर दी। मुरैना के जौरी गांव में पूर्व सांसद बाबूलाल सोलंकी के निवास पर भी फायरिंग हुई है। वहीं बमोरी क्षेत्र में घूमने पर गुना के भाजपा जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिकरवार समेत तीन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया। 

इधर, मुरैना जिले में सुमावली विधानसभा सीट के कासपुरा और खनेता गांव में फायरिंग की घटना हुई। इसमें एक महिला को गोली लगी। यहां दो बाइक भी जलाई गईं। जौरा में बाहुबलियों ने मतदान रोकने की कोशिश की। इसकी शिकायत की गई है। इससे पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर EVM से वोटिंग करवाने पर सवाल उठाए। शिवराज सिंह ने कहा कि कांग्रेस पहले ही हार की भूमिका बनाने लगी है। दिग्विजय सिंह ने सुमावली सीट पर पुनर्मतदान कराने की चुनाव आयोग से मांग की। 

उन्होंने कहा कि सुमावली में महिलाओं को वोट डालने से रोका गया है, इसलिए यहां पर फिर से मतदान कराया जाना चाहिए। वहीं भिण्ड  के मेहगांव में दो जगहों पर फायरिंग हुई है। मेहगांव के लिलोई गांव में कुछ लोगों ने ईवीएम में भी तोड़फोड़ कर दी। पुलिस और अधिकारियों के पहुंचने पर यह लोग भाग निकले। मतदान कर्मियों का कहना है कि कुछ लोग गाड़ियों में बैठकर आए थे और तोड़फोड़ की गई है इसके साथ ही मुरैना के जौरी गांव में पूर्व सांसद बाबूलाल सोलंकी के निवास पर भी फायरिंग हुई है। तो ग्वालियर में भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ता के बीच बहस हुई। यहां माल रोड स्थित मतदान केंद्र पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर वोट डालने पहुंचे थे। तभी कांग्रेस प्रत्याशी सतीश सिकरवार भी पहुंच गए। 

गुना में भाजपा जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिकरवार समेत तीन लोगों के खिलाफ केस दर्ज। बमोरी विधानसभा में मतदाता नहीं होने के बावजूद भी घूम रहे थे। इसके साथ ही राजगढ़ जिले की ब्यावरा विधानसभा सीट के बुनियादी स्कूल के मतदान केंद्र पर फर्जी मतदान करने की कोशिश में पोलिंग एजेंटों के बीच विवाद हो गया था जिसे मौके पर पहुंचकर पुलिस ने शांत करवाया उधर मुरैना जिले की जौरा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी पंकज उपाध्याय की डायरी पुलिस ने जब्त की है। आरोप है कि डायरी में ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताओं से लाखों रुपए लेन-देन का हिसाब है। पुलिस ने डायरी अलापुर गांव में स्थित एक मकान से जब्त की। पुलिस को देख लोग भागने लगे। 

एसपी अनुराग सुजानिया का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री गोपाल भार्गव पर आचार संहिता उल्लंघन का केस दर्ज हुआ है। बीती रात वह सुरखी सीट के बाजना में मतदाताओं के साथ बैठक कर रहे थे। सांवेर में इंडेक्स कालेज स्थित मतदान केंद्र पर एक फर्जी मतदाता पकड़ा गया। कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू की अधिकारियों से बहस हुई। मीडिया कवरेज पर रोक लगाई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों से वोटिंग की अपील करते हुए कहा, "वोटिंग से लोकतंत्र मजबूत होता है। आपकी उम्मीदें पूरी करने वाली सरकार चुनने के लिए आप सभी को वोट जरूर डालना चाहिए। घरों से निकलिए और वोटिंग कीजिए। हमें मिलकर मध्य प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाना है। 

सांवेर की तलावली चांदा बूथ पर कांग्रेस और बीजेपी के कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए। कांग्रेसियों का आरोप है कि बीजेपी के कार्यकर्ता मतदाताओं पर उनके पक्ष में वोट करने के लिए दबाव बना रहे हैं। डबरा में एक पोलिंग केंद्र पर करीब पौन घंटे तक मशीन खराब रही। इसके चलते देर से वोटिंग शुरू हुई। मुरैना के सुमावली सीट के जतावर पोलिंग बूथ पर फायरिंग हुई। मतदान रोका गया। एक युवक को गोली लगी। मामले में 4 लोग गिरफ्तार हो गए हैं। इनसे हथियार भी बरामद भी किया है। केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने अपनी पत्नी के साथ मतदान करने पहुंचे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि दिग्विजय सिंह को उपचुनावों में कांग्रेस की हार की भूमिका बनाना शुरू कर दिया है।

इन पर रहेगी खास नजर 

मध्यप्रदेश उप चुनाव में सिंधिया समर्थक भाजपा सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, प्रभु राम चौधरी, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया, गिर्राज दंडोतिया, ओपीएस भदौरिया, सुरेश धाकड़, बृजेंद्र सिंह यादव, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, ऐंदल सिंह कंसाना, बिसाहूलाल सिंह और हरदीप सिंह डंग पर सबकी नजर रहेगी। हालांकि, यह अपने बयानों को लेकर भी विवादों में रह चुके हैं।

ब्यावरा विधानसभा सीट पर दाव पर लगी दिग्विजय और शिवराज की प्रतिष्ठा

मध्यप्रदेश की ब्यावरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन के बाद उप चुनाव हुआ है इस चुनाव में जहां एक और भाजपा से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खास माने जाने वाले नारायण सिंह पंवार मैदान में है तो वहीं कांग्रेस से दिग्विजय ने अपने गढ़ में रामचंद्र दांगी को मैदान में उतार है इस सीट पर जहां एक और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रतिष्ठा दांव पर लगी तो वहीं कांग्रेस से दिग्विजय सिंह इस सीट को वापस कांग्रेस के खाते में लाने के लिए लगे हुए थे।