ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन (AIKKMS) ने भोपाल कलेक्टर ऑफीस पर प्रदर्शन कर किसानों की मांगो के समर्थन मे प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा

ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन (AIKKMS) ने भोपाल कलेक्टर ऑफीस पर प्रदर्शन कर किसानों की मांगो के समर्थन मे प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा

ol indiya kisaan khet majadoor sangathan (aikkms) ne bhopaal kalektar ophees par pradarshan kar kisaanon kee maango ke samarthan me pradhaanamantree ke naam gyaapan saumpa

14 दिसंबर को किसान संगठनो के आहवान पर ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन (AIKKMS) ने भोपाल कलेक्टर ऑफीस पर प्रदर्शन कर किसानों की मांगो के समर्थन मे प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। प्रदर्शन को संबोधित करते हुए  श्रीमती जॉली सरकार ने कहा कि सरकारें सभी सार्वजनिक क्षेत्र को प्राइवेट कंपनियो के हवाले करने के बाद अब इन कृषि कानूनों के माध्यम से पहले से बर्बाद खेती, किसानी को भी मुट्ठी भर पूंजीपतियों के हवाले कर देना चाहती है। 

epeeemasee ekt ke dvaara nijee mandiyon ko kholane kee chhoot dena eesee kee shuruaat hai . kaantrekt phaarming se kisaanon ko nijee kampaniyon kee loot ke lie khulee chhoot mil jaayegee  saath hee jamaakhoree par lagee kaanoonee rok ko hataane se manhagaee jamaakhoree tejee se badhegee  . isaliye samaaj ke  har tabake ko in krshi kaanoonon ka khul kar virodh karana chaahie va kisaan aandolan ko har sambhav madad karana chaahie . sanchaalan mudit bhatanaagar ne kiya.

एपीएमसी एक्ट के द्वारा निजी मंडियों को खोलने की छूट देना ईसी की शुरुआत है । कान्ट्रेक्ट फार्मिंग से किसानों को निजी कंपनियों की लूट के लिए खुली छूट मिल जायेगी  साथ ही जमाखोरी पर लगी कानूनी रोक को हटाने से मंहगाई जमाखोरी तेजी से बढ़ेगी  । इसलिये समाज के  हर तबके को इन कृषि कानूनों का खुल कर विरोध करना चाहिए व किसान आंदोलन को हर संभव मदद करना चाहिए । संचालन मुदित भटनागर ने किया।