भोपाल कोर्ट ने दिया बड़ा आदेश, कहा- IAS अफसर टी धर्माराव के दोनों बेटों को 1 करोड़ रुपए का क्लेम द नेशनल इंश्योरेंस कंपनी


मध्य प्रदेश के भोपाल की एक विशेष अदालत में मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण की पीठासीन अधिकारी कविता वर्मा ने साढ़े सात साल पहले एक सड़क दुर्घटना में मारे गए आईएएस अफसर टी धर्माराव के परिजनों को एक करोड़ का मुआवजा दिए जाने के आदेश दिए हैं। इस मामले में अधिक जानकारी देते हुए एडवोकेट एलबी यादव ने बताया कि, कोर्ट के आदेश के चलते नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड उक्त राशि का भुगतान करना होगा।

आपको बता दें कि, सूबे के तीन अफसर टी धर्माराव, अशोक अवस्थी और शिवेंद्र सिंह परिवार सहित 13 जून 2013 को सुबह10:30 बजे इनोवा कार (नंबर जेके -10-6773) में बैठ कर लेह से खारदुंगला जा रहे थे। वे खारदुंगला रोड इंडिया गेट के पास तक पहुंचे ही थे कि ड्राइवर ने काफी तेजी व लापरवाही से चलाते हुए कार को 300 फीट गहरी खाई में नीचे गिरा दिया था।

इस दौरान सड़क दुर्घटना में धर्माराव, उनकी पत्नी विद्या राव और शिवेंद्र सिंह की पत्नी कुमुद सिंह की मौत हो गई थी। जबकि अशोक अवस्थी, उनकी पत्नी मंजरी अवस्थी तथा शिवेंद्र सिंह घायल हुए थे। इस दुर्घटना में इनोवा कार चालक सहित टी धर्माराव उनकी पत्नी विद्या राव और कुमुद सिंह की मृत्यु हो गई थी तथा शिवेंद्र सिंह, अशोक अवस्थी और मंजरी अवस्थी गंभीर रूप से घायल हो गए थे। अदालत में मृत आईएएस अधिकारी धर्माराव उनकी पत्नी विद्या राव एवं कुमुद सिंह की ओर से दुर्घटना दावा अदालत में पेश किया गया था।

इस मामले में मृतकों एवं गंभीर रूप से घायलों के परिजनों की ओर से एडवोकेट एलबी यादव ने दुर्घटना दावा अधिकरण में मामला पेश किया था। दुर्घटना में मारे गए धर्माराव की ओर से क्षतिपूर्ति में 3 करोड़ की राशि का दावा अदालत में पेश किया गया था। 

सभी मामलों की सुनवाई करते हुए पीठासीन अधिकारी कविता वर्मा ने धर्माराव की दुर्घटना में मौत के मामले में उनके दोनों बेटों को एक करोड़ रुपए, विद्या राव के लिए दुर्घटना मुआवजा के रूप में 6 लाख 80 हजार रुपए, मृतका कुमुद सिंह के परिजनों को 5 लाख 57 हजार रुपए, गंभीर रूप से घायल मंजरी अवस्थी को 8 लाख 81 हजार रुपए, घायल शिवेंद्र सिंह एवं अशोक अवस्थी को अदालत ने 20 - 20 हजार रुपए का मुआवजा दिए जाने की भी आदेश दिए हैं।