फ़ैज़ भाई आप की आँखों में भोपाल की स्वच्छता को लेकर राज़ है,आपसे भी खूबसूरत आपके अंदाज़ हैं । मोहम्मद जावेद खान

 नामुमकिन नहीं कुछ, भी इस पूरे संसार में

जो चाहे वो तुम, कर सकते हो 

अगर आत्मविश्वास, हो तुम में 

तुम पहाड़ तोड़ रास्ता, बना  सकते हो।



भोपाल की स्वच्छता को लेकर सैयद फ़ैज़ अली के नाम का लोहा अब सरकार के अधिकारी भी मानने और पहचानने लगे हैं। कम उम्र का नौजवान,ऐसा जुनून स्वच्छता को लेकर देखते ही बनता है,अपने समय के साथ साथ अपने जेब का पैसा भी खर्च करते हैं  स्वच्छता में भोपाल को नंबर एक बनाने के लिए । ऐसे  बिरले लोग ही होते हैं,जो अपने बारे में कम दूसरों के बारे में अधिक सोचते हैं। ऐसा ही नाम जो आजकल नगर निगम के अधिकारियों के ज़बानों पर चढ़ा हुआ है, वह है सैयद फ़ैज़ अली। सैयद फ़ैज़ अली को स्वच्छा ग्राही सम्मान वर्ष 2020-21 से नवाजा गया है, उन्होंने स्वच्छता के क्षेत्र में जन जागरूकता लाने का प्रयास किया हैं। इसके लिए नगर निगम भोपाल और कलेक्टर अविनाश लवानिया जी ने स्वच्छता सेवा सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया। वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान सैयद फ़ैज़अली ने बुजुर्गों को भोजन उपलब्ध कराने, उनके आने-जाने की व्यवस्था कराने तथा महामारी के विषय में जागरूकता लाने का भी भरपूर प्रयास किया। उनके इन प्रयासों का हम सम्मान करते हैं और ऊपर वाले से यह दुआ मांगते हैं की फ़ैज़  के प्रयासों को ऊपर वाला पूरा करें ।  सैयद फ़ैज़ अली का सपना शहर-गली में चर्चा हो,स्वच्‍छ भोपाल अभियान की,आओ हम तुम्हें बताएं महानता कचरा दान की। कपड़े का झोला विकल्प है,पॉलीथिन की थैली का।आओ कसम खाए घर से लेकर जाएंगे कपड़े का झोला,पॉलिथीन खाकर ना मरे गाय,ना चौक होगी नाली और गटर। 

हार हो जाती है जब, मान लिया जाता है । 

जीत तब होती है , जब ठान लिया जाता है।


इस बार ठान लो भोपाल को स्वच्छता में नंबर एक पर लाना है


मोहम्मद जावेद खान 

संपादक : भोपाल मेट्रो न्यूज़